‘अब चीन भी मान गया कि उसकी सीमा में हैं अरुणाचल से लापता 5 भारतीय’

नई दिल्ली। भारत (India) और चीन (China) के बीच सीमा पर स्थिति नियंत्रण में नहीं है। लगातार कई महीनों से दोनों देश की सेनाओं के बीच किसी ना किसी तरह की आपसी झड़प की खबरें आ रही है। दोनों देश ने सीमा पर अपनी सेनाओं की तैनाती बढ़ा दी है। लद्दाख से अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) तक चीन के साथ हर सीमा पर भारतीय सेना (Inidan Army) ने अपनी सबसे ताकतवर बटालियन को तैनात कर रखा है। चीन की तरफ से किसी तरह के भी उकसावे का भारतीय सेना मुंहतोड़ जवाब दे रही है। वहीं दो दिन पहले एक खबर आई की अरुणाचल प्रदेश की सीमा से 5 भारतीय गायब हैं।

कांग्रेस (Congress) के एक नेता ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इसपर तत्काल ध्यान देने की गुजारिश की उनका कहना था कि चीन की PLA ने ही इन भारतीयों को अपने कब्जे में लिया है। इसके बाद से इस मामले ने तुल पकड़ लिया था। अब इस मामले पर केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू (Union Minister Kiren Rijiju) ने कहा कि चीन (China) के पीएलए (PLA) ने भारतीय सेना (Indian Army) के हॉटलाइन मैसेज का जवाब दिया है। चीनी सेना ने पुष्टि की है कि पिछले दिनों अरुणाचल प्रदेश से लापता 5 युवक चीन की सीमा में मिले हैं। किरेन रिजिजू ने मंगलवार को ट्वीट के जरिए यह जानकारी दी है। उन्‍होंने कहा कि उन युवकों को भारत को सौंपने के लिए प्रक्रियाओं को पूरा किया जा रहा है।

china-india

बता दें कि कुछ दिन पहले अरुणाचल प्रदेश के कांग्रेस विधायक निनॉन्‍ग एरिंग ने दावा किया था कि चीन की सेना ने राज्‍य के सीमावर्ती इलाके से 5 भारतीयों को कथित रूप से अगवा कर लिया है। उन्‍होंने सरकार से तुरंत कार्रवाई की मांग की थी। इससे पहले अरुणाचल प्रदेश में बॉर्डर से चीन की सेना (PLA) द्वारा पांच भारतीयों के अपहरण करने के मामले में चीन ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि वह अरुणाचल को भारत का हिस्सा नहीं मानता। चीन ने स्पष्ट कहा कि वह अरुणाचल को हमेशा से ही चीन के दक्षिणी तिब्बत का इलाका मानता आया है।

चीन का आरोप है कि सोमवार को एलएसी पर तैनात भारतीय सैनिकों ने एक बार फिर ग़ैर-क़ानूनी तरीक़े से वास्तविक सीमा रेखा को पार किया और चीनी सीमा पर तैनात सैनिकों पर वार्निंग शॉट्स फ़ायर किए। चीन के मुताबिक़ चीनी सैनिक बातचीत करने वाले थे।

अपहरण के मामले में केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने ट्विटर के जरिए सवाल पूछा था, जिसके जवाब में ये प्रतिक्रिया आई है। चीन के सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक़ चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता चाओ लिजिएंग ने कहा, ‘चीन ने कभी ‘कथित’ अरुणाचल प्रदेश को मान्यता नहीं दी, ये चीन के दक्षिणी तिब्बत का इलाका है। हमारे पास भारतीय सेना की ओर से इस इलाके से पांच लापता भारतीयों को लेकर सवाल आया है लेकिन अभी हमारे पास इसे लेकर कोई जानकारी नहीं है।’

Kiren Rijiju

भारतीय सेना ने अरुणाचल प्रदेश के ऊपरी सुबनसिरी ज़िले से पांच लोगों के ‘पीपुल्स लिबरेशन आर्मी’ (पीएलए) के सैनिकों द्वारा कथित तौर पर अपहरण किए जाने के मुद्दे को चीनी सेना के समक्ष उठाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *