आमिर खान की बेटी इरा जूझ रहीं हैं चार साल से डिप्रेशन से, वर्ल्ड मेंटल हैल्थ डे पर किया खुलासा: video

बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट। आमिर खान की बेटी डिप्रेशन से जूझ रही हैं, उनकी यह स्थिति पिछले 4 सालों से है। इस बात का खुलासा इरा ने खुद सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी करके किया है।

इरा ने अपनी हेल्थ को लेकर ये खुलासा वर्ल्ड मेंटल हेल्थ डे पर किया है। अब हाल ही में इरा ने अपने डिप्रेशन को लेक र बात की है। इरा ने अपना वीडियो शेयर किया है। वीडियो में इरा ने कहा, 'मैं करीब 4 सालों से डिप्रेशन में हूं। मैं इसका इलाज कराने डॉक्टर के पास भी गई थी। मैं क्लिनिकली डिप्रेस्ड हूं, लेकिन अब मैं पहले से बेहतर महसूस कर रही हूं। पिछले 1 साल से मैं मेंटल हेल्थ को लेकर कुछ करना चाहती थी लेकिन मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं। फिर मैंने सोचा कि मैं आपको अपनी जर्नी पर लेकर चलती हूं।'

इरा ने आगे कहा, 'चलिए शुरू करते हैं जहां से शुरू हुआ। मैं किस बात से डिप्रेस हूं? मेरे पास तो सब कुछ है..है न?'

<

>
वीडियो को शेयर करते हुए इरा ने लिखा, 'बहुत कुछ चल रहा है, बहुत सारे लोगों के पास कहने के लिए बहुत कुछ है. चीजें वास्तव में भ्रामक और तनावपूर्ण हैं, आसान और ठीक है लेकिन ठीक नहीं है, यही जीवन है। इरा ने आगे लिखा, 'यह सब कहने का कोई तरीका नहीं है, लेकिन मुझे लगता है कि मुझे कुछ मिल गया है या शायद मिल रहा है, जिससे मैं इसे थोड़ा और समझ रही हूं। तो इस यात्रा पर मेरे साथ आओ… मेरी अजीब, विचित्र, कभी-कभी-बच्चे जैसी भाषा के जरिए एक बातचीत शुरू करते हैं'।वीडियो में इरा ने कहा, 'मैं करीब 4 सालों से डिप्रेशन में हूं।

मैं इसका इलाज कराने डॉक्टर के पास भी गई थी। मैं क्लिनिकली डिप्रेस्ड हूं, लेकिन अब मैं पहले से बेहतर महसूस कर रही हूं। पिछले 1 साल से मैं मेंटल हेल्थ को लेकर कुछ करना चाहती थी लेकिन मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं। फिर मैंने सोचा कि मैं आपको अपनी जर्नी पर लेकर चलती हूं।'

इरा ने आगे कहा, 'चलिए शुरू करते हैं जहां से शुरू हुआ। मैं किस बात से डिप्रेस हूं? मेरे पास तो सब कुछ है..है न?'

वीडियो को शेयर करते हुए इरा ने लिखा, 'बहुत कुछ चल रहा है, बहुत सारे लोगों के पास कहने के लिए बहुत कुछ है. चीजें वास्तव में भ्रामक और तनावपूर्ण हैं, आसान और ठीक है लेकिन ठीक नहीं है, यही जीवन है। इरा ने आगे लिखा, 'यह सब कहने का कोई तरीका नहीं है, लेकिन मुझे लगता है कि मुझे कुछ मिल गया है या शायद मिल रहा है, जिससे मैं इसे थोड़ा और समझ रही हूं। तो इस यात्रा पर मेरे साथ आओ… मेरी अजीब, विचित्र, कभी-कभी-बच्चे जैसी भाषा के जरिए एक बातचीत शुरू करते हैं'।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *