कांग्रेस की एमपी के किसानों से क्या दुश्मनी?

भोपाल। मध्यप्रदेश के बासमती चावल को जीआई (जियोलॉजिकल इंडीकेशन) देने की चल रही कवायद के बीच पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे गए खत पर ऐतराज जताते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है। उन्होंने पूछा है कि मध्यप्रदेश के किसानों से आखिर कांग्रेस की क्या दुश्मनी है? मध्यप्रदेश के बासमती चावल को जीआई टैगिंग दिलाए जाने के प्रयास पर पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि कृषि उत्पादों को जीआई टैगिंग दिए जाने से उनको भौगोलिक पहचान मिलती है। अगर जीआई टैगिंग से छेड़छाड़ होती है तो इससे भारतीय बासमती के बाजार को नुकसान होगा। इसका सीधा लाभ पाकिस्तान को मिल सकता है।

पंजाब के मुख्यमंत्री की पाकिस्तान को लाभ मिलने वाली बात पर ऐतराज जातते हुए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज ने सीधे कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है। इस पत्र में उन्होंने अमरिंदर सिंह की बात को असत्य बताते हुए लिखा है, “अमरिंदर सिंह का यह कथन पूर्ण रूप से असत्य, नितांत अनुचित एवं दुर्भाग्यपूर्ण है। यह किसान विरोधी है, मध्यप्रदेश विरोधी है तथा कांग्रेस के किसान विरोधी चरित्र को उजागर करता है।”

BJP leader Shivraj Singh Chouhan

चौहान ने राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद किए गए वादे का जिक्र करते हुए लिखा है कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बन जाने पर राहुल गांधी ने 10 दिन में किसानों का कर्ज माफ करने की घोषणा की थी, परंतु यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है कि तत्कालीन मुख्यमंत्री कमल नाथ ने इसे मजाक बना दिया। किसानों से बार-बार वादे किए गए, मगर कर्जमाफी पर हकीकत में कुछ नहीं हुआ। इतना ही नहीं, फसल बीमा का प्रीमियम भी कमल नाथ सरकार ने नहीं भरा, जिससे किसानों को दावा राशि नहीं मिल पाई।

चौहान ने आगे लिखा है कि राज्य में भाजपा सरकार ने आते ही सबसे पहले फसल बीमा के प्रीमियम की 22 सौ करोड़ रुपये की शेष राशि भरी, तब जाकर किसानों को फसल बीमा का दावा राशि प्राप्त हुई। किसानों को शून्य ब्याज पर दिए जाने वाले कर्ज को भी कांग्रेस ने बंद कर दिया। आखिर मध्यप्रदेश के किसानों से कांग्रेस की क्या दुश्मनी है।

Shivraj SIngh Chouhan

राज्य के बासमती चावल की गुणवत्ता का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में लिखा है कि मध्यप्रदेश का बासमती चावल अत्यंत स्वादिष्ट होता है और अपने जायके और खुशबू के लिए देश-विदेश में प्रसिद्ध है। मध्यप्रदेश को मिलने वाले जीआई टैग से अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में भारत के बासमती चावल की कीमतों की स्थिरता मिलेगी और देश के निर्यात को बढ़ावा मिलेगा। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ राइस रिसर्च, हैदराबाद में अपनी उत्पादन सर्वेक्षण रिपोर्ट में दर्ज किया है कि मध्य प्रदेश में पिछले 25 सालों से बासमती चावल का उत्पादन किया जा रहा है।

पंजाब के मुख्यमंत्री के पाकिस्तान को लाभ मिलने वाले बयान का जिक्र करते हुए चौहान ने कहा है कि यह अत्यंत दुखद है कि मध्यप्रदेश के बासमती को जीआई टैग दिए जाने के मामले को पाकिस्तान से जोड़कर अमरिंदर घटिया राजनीति की कोशिश कर रहे हैं।

शिवराज ने सोनिया गांधी से पूछा है कि कांग्रेस पार्टी मध्यप्रदेश किसानों के विरुद्ध क्यों खड़ी है और जहां पूरा देश कोरोना के संकट से जूझ रहा है, अर्थव्यवस्था ध्वस्त है, राज्य सरकार किसानों को हर संभव मदद कर रही है, वहीं दूसरी ओर कांग्रेस शासित राज्यों की किसानों के प्रति संवेदनहीनता अत्यंत पीड़ादायी है। यदि मध्यप्रदेश का किसान तरक्की करता है, आगे बढ़ता है तो आपको क्या परेशानी है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *