कृषि विश्वविद्यालय में स्नातकोत्तर और पीएचडी की सीट बढ़ाएगा प्रबंधन

स्नातक की 20 और पीएचडी की बढ़ेगी 19 सीट

रायपुर. इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय (Indira Gandhi Agricultural University) शैक्षणिक सत्र 2020-21 में पीएचडी और स्नातकोत्तर की सीटों में बढ़ोत्तरी करेगा। मैनेजमेंट कोटे से सीटों की बढ़ोत्तरी करने की तैयारी कृषि विश्वविद्यालय प्रबंधन कर रहा है।

कृषि विश्वविद्यालय (Indira Gandhi Agricultural University) प्रबंधन शैक्षणि सत्र 2020-21 में 39 सीटों की बढ़ोत्तरी करेगा। इसमें पीएचडी की 19 और स्नातकोत्तर की 20 सीट शामिल है। इसी तरह से जम्मू कश्मीर के छात्रों के लिए भी एक सीट बढ़ाने की तैयारी की जा रही है। ज्ञात हो कि विश्वविद्यालय में स्नातक की कुल 23 सौ सीट, स्नातकोत्तर की 400 सीट और पीएचडी की 100 सीट मौजूदा समय में हैं।

छात्रों को मिलेगा फायदा

पिछले कुछ वर्षों से अन्य पाठ्यक्रमों की अपेक्ष कृषि शिक्षा की तरफ छात्रों का तेजी से रूझान बढ़ा है। स्नातक की शिक्षा लेने और पीएचडी की रिसर्च करने के लिए दूसरे राज्यों के छात्र भी पहुंच रहे हैं। विशेषज्ञों की माने तो स्नातकोत्तर और पीएचडी की सीटे बढऩे पर इसका फायदा सीधे रूप से छात्रों को मिलेगा, क्योंकि सटी कम होने की वजह से कई छात्रों का कृषि विश्वविद्यालय (Indira Gandhi Agricultural University) में प्रवेश नहीं हो पाता है, और उन्हें दूसरे राज्यों में पलायन करना पड़ता है। सीट बढऩे से अब छात्रों को पलायन नहीं करना पड़ेगा।

प्रवेश प्रक्रिया में बदलाव

व्यापम द्वारा परीक्षा नहीं लिए जाने पर इस बार कृषि विश्वविद्यालय में दाखिले की प्रक्रिया में बदलाव किया गया है। स्नातक में 12वीं की मेरिट के आधार पर प्रवेश प्रक्रिया होगी। पीएचडी में दाखिले के लिए स्नातक और पीजी में प्राप्त हुई अभ्यर्थी की रैंक को आधार बनाकर प्रवेश दिया जाएगा। वहीं विश्वविद्यालय ने इस बार इन प्रमुख मापदंडों के अलावा अधिक उम्र को भी प्रमुखता देने का फैसला लिया है।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *