केरल सचिवालय में आग, विपक्ष ने साजिश का आरोप लगाया

तिरुवनंतपुरम। केरल (Kerala) विधानसभा के विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला ने आरोप लगाया है कि मंगलवार को राज्य सचिवालय में आग लगने की घटना मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन (CM Pinarayi Vijayan) के इशारे पर सोने की तस्करी से संबंधित महत्वपूर्ण सबूतों को नष्ट करने के लिए एक बड़ी साजिश का हिस्सा है। आग शाम करीब 4.30 बजे राज्य सचिवालय के सामान्य प्रशासन विभाग (राजनीतिक) में लगी।

Ramesh Chennithala

चेन्निथला ने कहा, “जीएडी राजनीतिक अनुभाग में आग लगी और यह इस विभाग के तहत है जिसमें कि विदेशी यात्रा और राजनीतिक मंजूरी से संबंधित सभी फाइलें रखी जाती हैं। किसी को भी यह नहीं भूलना चाहिए कि एनआईए ने सभी सीसीटीवी फुटेज मांगे हैं। यह एक साजिश है। विजयन की जानकारी में सबूतों को मिटाने के लिए यह साजिश की गई है।”

इस बीच, राज्य भाजपा अध्यक्ष के. सुरेंद्रन ने कहा कि यह एक बहुत गंभीर मुद्दा है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कि आग सोने की तस्करी के मामले में महत्वपूर्ण सबूतों को नष्ट करने के लिए लगाई गई थी। सुरेंद्रन ने कहा, “प्रोटोकॉल कार्यालय में आग लग गई और हमें बताया गया कि कुछ लोगों के कोरोना संक्रमित निकलने के बाद यह कार्यालय बंद था। यह एक कहानी है, जिसकी पटकथा तैयार की जा रही है। सोने की तस्करी के मामले की जांच कर रही केंद्रीय एजेंसियों को इस मुद्दे पर गौर करना चाहिए। इससे कुछ समय पहले, मुख्यमंत्री ने खुद कहा था कि आकाशीय बिजली गिरने से सीसीटीवी नष्ट हो गए। ऐसे समय में जब जांच के लपेटे में विजयन तक आ गए हैं, मामले में सभी संभावित सबूतों को नष्ट किया जा रहा है।”

K Surendran

हालांकि, जीएडी में अतिरिक्त सचिव पी. हनी ने कहा कि विभाग में बस दो कर्मचारी मौजूद थे। कंप्यूटर में आ लगा देखा गया और इसका कारण शॉर्ट सर्किट है। कंप्यूटर के पास रैक पर रखे कुछ पुरानी फाइलें जल गईं।

सोने की तस्करी का मामला तब सामने आया, जब यहां यूएई वाणिज्य दूतावास के एक पूर्व कर्मचारी पी.एस. सरिथ को सीमा शुल्क ने 5 जुलाई को दुबई से तिरुवनंतपुरम की यात्रा में राजनयिक सामान में 30 किलोग्राम सोने की तस्करी करने के मामले में गिरफ्तार किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *