चुनाव का एजेंडा राजद-कांग्रेस तय कर रहे है, महागठबंधन की जीत तय: Sachin Pilot

पटना। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री सचिन पायलट ने बृहस्पतिवार को कहा कि बिहार में चुनाव का एजेंडा राजद-कांग्रेस तय कर रहे हैं और महागठबंधन के उठाये विषयों पर ही राजग प्रतिक्रया व्यक्त कर रहा है जिनमें नौकरी का मुद्दा शामिल है। सचिन पायलट ने संवाददाताओं से कहा, ''बिहार में चुनाव का एजेंडा राजद-क ांग्रेस तय कर रहे है और हमारी बातों का मजबूरी में भाजपा, जदयू को जवाब देना पड़ रहा है।
उन्होंने कहा कि राजद ने जब कहा कि हम 1० लाख रोजगार देंगे तब तीन दिनों तक खूब मजाक उड़ाया गया और चौथे दिन उन्होंने (भाजपा) कहा कि हम 19 लाख रोजगार देंगे।

नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कांग्रेस नेता ने कहा, '' अपनों का साथ छोड़ देना नीतीश कुमार के लिये कोई नई बात नहीं है। अपनी कुर्सी के लिये किसी भी हद तक जाने वाला व्यक्ति और दल बिहार का भला नहीं कर सकता है। उन्होंने दावा किया कि बिहार चुनाव में महागठबंधन की जीत ऐतिहासिक होगी और यह चुनाव परिणाम पूरे देश की राजनीति को प्रभावित करेगा। पायलट ने कहा कि भाजपा पश्चिम बंगाल, असम सहित अन्य क्षेत्रों में पांव पसारने का मंसूबा रखती है लेकिन बिहार के लोग राज्य में उसे मजबूती के साथ रोक देंगे।

भाजपा पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि लोगों को बांटकर, भ्रमित करके, आक्रामक राजनीति और भय दिखाकर वोट तो लिये जा सकते हैं लेकिन सत्ता में आने के बाद जनता की कसौटी पर खरा नहीं उतरा जा सकता है। क ांग्रेस नेता ने कहा, ''बिहार में सिद्धांतों से समझौता करने वाली राजनीति ज्यादा नहीं चलेगी। सुशासन का दावा करने वाली सरकार किसी भी सवाल का जवाब नहीं दे पा रही है और न ही कोई पारदर्शिता है।
उन्होंने आरोप लगाया कि कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन के दौरान राजस्थान के कोटा में पढ़ने वाले बिहार के छात्रों की वापसी का प्रबंध करने के लिये राजस्थान की सरकार तैयार थी लेकिन बिहार सरकार ने ध्यान नहीं दिया। पायलट ने आरोप लगाया कि कोरोना वायरस का संक्रमण पूरे देश में था लेकिन सबसे खराब प्रबंधन बिहार में दिख रहा है।

मुंगेर कांड पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश की राजग सरकार को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। सचिन पायलट ने कहा कि महागठबंधन की सभाओं में उत्साह दिख रहा है, जिससे बदलाव निश्चित है और दस नवंबर को राजग और नीतीश कुमार की विदाई भी तय है।
लोजपा के राजग से अलग होने के बारे में एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि राजग की आपस की खिचड़ी को कोई समझे या नहीं लेकिन प्रदेश की जनता इसे समझती है और वह अपना वोट बर्बाद नहीं करेगी।

उन्होंने सवाल किया कि यहां डबल इंजन की सरकार की बात की जाती है लेकिन पिछले पांच साल में कौन से क्रांतिकारी काम किये गए, यह बतायें। महागठबंधन की जीत का दावा करते हुए पायलट ने कहा कि प्रत्यक्ष को प्रमाण की जरूरत नहीं होती है क्योंकि जब सत्तारूढ़ गठबंधन को लगा कि नीतीश कुमार की साख कम हो रही है तब पोस्टरों से उनके चित्र गायब कर दिये गए। (एजेंसी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *