प्रधानमंत्री मोदी, शिक्षा नीति और स्कूली शिक्षा पर देंगे अपना संबोधन

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) शुक्रवार को राष्ट्रीय शिक्षा नीति- 2020 (NEP 2020) के तहत 21वीं सदी में स्कूली शिक्षा विषय पर एक सभा को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करेंगे। शिक्षा मंत्रालय, शिक्षा पर्व के एक हिस्से के रूप में 10 और 11 सितंबर को दो दिवसीय सम्मेलन का आयोजन कर रहा है। इसी कार्यक्रम को प्रधानमंत्री मोदी संबोधित करेंगे। इससे पहले पीएम मोदी ने 7 अगस्त को NEP- 2020 के तहत उच्च शिक्षा में परिवर्तनकारी सुधार कार्यक्रम में उद्घाटन भाषण दिया था। पीएम मोदी ने 7 सितंबर को एनईपी- 2020 पर राज्यपालों के सम्मेलन को भी संबोधित किया है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने आधिकारिक जानकारी देते हुए कहा, एनईपी- 2020 इक्कीसवीं सदी की पहली शिक्षा नीति है, जिसे पिछली राष्ट्रीय शिक्षा नीति 1986 के 34 वर्षो के बाद घोषित किया गया है। एनईपी-2020 में स्कूली और उच्च शिक्षा दोनों स्तर पर बड़े सुधारों के लिए निर्देश दिया गया है।

शिक्षा मंत्रालय ने कहा, नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति का उद्देश्य भारत को एक न्यायोचित और ज्ञान आधारित उद्योगी समाज बनाना है। इसमें भारत केंद्रित शिक्षा प्रणाली को लागू करने की सोच है, जो देश को वैश्विक महाशक्ति में बदलने में सीधे योगदान करेगा। एनईपी-2020 में देश में स्कूली शिक्षा में व्यापक सुधार की बात है। स्कूल स्तर पर 8 वर्ष की आयु तक के बच्चों के लिए बचपन देखभाल और शिक्षा (ईसीसीई) के सार्वजनिकरण, स्कूल पाठ्यक्रम की 10 प्लस 2 संरचना को 5 प्लस 3 प्लस 3 प्लस 4 पाठ्यचर्या संरचना में बदलने, 21वीं सदी के कौशल, गणितीय सोच और वैज्ञानिक रुझान के पाठ्यक्रम को एकीकृत करने, स्कूली शिक्षा के लिए नए व्यापक राष्ट्रीय पाठ्यक्रम के ढांचे का विकास करने, शिक्षकों के लिए राष्ट्रीय पेशेवर मानक तैयार करने, मूल्यांकन सुधार और बच्चे की 360 डिग्री समग्र प्रगति कार्ड, और कक्षा 6 के बाद से व्यावसायिक एकीकरण पर जोर दिया जा रहा है।

ramesh pokhriyal

शिक्षकों को सम्मानित करने और नई शिक्षा नीति 2020 को आगे बढ़ाने के लिए 8 सितंबर से 25 सितंबर, 2020 तक शिक्षा पर्व मनाया जा रहा है। देशभर में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के अलग-अलग पहलुओं पर वेबिनार, वर्चुअल सम्मेलन और सभाएं आयोजित की जा रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *