ब्लैक आउट होने पर 14 मिनट में चालू हो सकेंगे बिजली घर |

रायपुर के पॉवर लोड डिस्पैच सेंटर से कराया गया ब्लैक स्टार्ट ग्रिड रिस्टोरेशन

रायपुर। प्रदेश में आकस्मिक ब्लैक आउट (BLACK OUT) होने पर 14 मिनट में बिजली घर दोबारा शुरू हो सकेंगे। बिजली कंपनी के अधिकारियों ने ब्लैक आउट होने की स्थिति में ताप विद्युत गृहों को पुर्नसंचालित करने हेतु जल विद्युत गृह से स्टार्ट अप पॉवर सप्लाई करने संबंधी एक मॉक ड्रिल छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी के लोड डिस्पेच सेंटर में सफलतापूर्वक किया है। मॉक ड्रिल के माध्यम से यह सुनिश्चित करने का अभ्यास किया गया, कि आपात स्थिति में पॉवर प्लांट के ब्लैक आउट होने पर कोरबा पूर्व के बिजली संयंत्रों को शुरू करने हेतु 14 मिनट में जल विद्युत संयंत्रों से बिजली पहुंचाई जा सकेगी।

दो बार करना होता है मॉर्कड्रिल

बिजली कंपनी (BLACK OUT) के अधिकारियों ने बताया, कि इंडियन इलेक्ट्रिसिटी ग्रिड कोड और स्टेट ग्रिड कोड के निर्देशानुसार साल में दो बार इस तरह का मॉकड्रिल करना होता है। अंतरराज्जीय बिजली ग्रिड ठप्प होने की स्थिति में ठप्प बिजली व्यवस्था को जल्द से जल्द बहाल करने हेतु यह मॉकड्रील छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर ट्रांसमिशन, जनरेशन एवं डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी के इंजीनियरों द्वारा सामूहिक रूप से किया गया। पूर्वाभ्यास के दौरान विकट विद्युत संकट में कोरबा के थर्मल पावर प्लांट को बांगों स्थिति जल विद्युत संयंत्र से स्टार्ट-अप पॉवर कोरबा पूर्व के 132 केवी उपकेंद्र को 14 मिनट में भेजने में सफलता प्राप्त की गई।

बांगो जल विद्युत संयंत्र ब्लैक स्टार्ट हेतु उपलब्ध

बिजली कंपनी (BLACK OUT) के अधिकारियों ने बताया, कि देश के पश्चिम क्षेत्रीय ग्रिड से छत्तीसगढ़ सहित गुजरात, मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र इत्यादि राज्य जुड़े हुये हैं। कई राज्यों से जुड़े विशाल ग्रिड के संचालन में कभी गड़बड़ी आने की स्थिति में बिजली संयंत्रों को फिर से चालू करने में अनेक कठिन चुनौतियां होती हैं। इन्हीं परिस्थितियों में त्वरित बिजली सेवा बहाली के लिए प्रदेश में स्थापित ताप विद्युत संयंत्रों को स्टार्टअप पॉवर उपलब्ध कराने के लिए मॉकड्रील किया जाता है। ब्लेक आउट की स्थिति में बंद विद्युत उत्पादन संयंत्र के पुर्नसंचालन हेतु हायडल (जल विद्युत) या गैस पर आधारित संयंत्रों (जिनको चालू करने में कम समय लगता है) का उपयोग किया जाता है। छत्तीसगढ़ में बांगो जल विद्युत संयंत्र को ही एकमात्र जल संयंत्र ब्लैक स्टार्ट हेतु उपलब्ध है।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *