भारत से विवाद बना चीन के लिए मुसीबत, इस साल के 11 महीनों में चीन से भारत को होने वाले निर्यात में आई इतने प्रतिशत की कमी

नई दिल्ली। लद्दाख में भारतीय सैनिकों के साथ झड़प और सीमा विवाद के बाद भारत में चीनी सामानों का विरोध शुरू हुआ तो इसका असर अब चीन की अर्थव्यवस्था पर साफ देखा जा रहा है। दरअसल अभी ये साल खत्म नहीं हुआ लेकिन 2020 के 11 महीनों में ही चीनी वस्‍तुओं का बहिष्‍कार का बड़ा असर भारत को होने वाले निर्यात में देखा गया है। बता दें कि चीन से भारत को होने वाली निर्यात में 13 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। चीन के सीमा शुल्क विभाग द्वारा सोमवार को जारी आंकड़ों के अनुसार वहीं भारत का चीन को निर्यात इसी दौरान 16 प्रतिशत बढ़ा है। बता दें कि यह स्थिति पूर्वी लद्दाख में जारी तनाव के कारण उत्पन्न हुई है। इसकी वजह हालत ये है कि, द्विपक्षीय व्यापार 2020 के पहले 11 महीनों में 78 अरब डॉलर पर पहुंच गया। इससे पहले साल 2019 में दोनों देशों का व्यापार 92.68 अरब डॉलर रहा था।

सीमा शुल्क के आंकड़े को देखें तो पता चलता है कि इस साल चीन ने जनवरी से नवंबर के दौरान करीब 59 अरब डॉलर मूल्य का निर्यात किया। लेकिन वहीं पिछले साल 2019 की तुलना में यह आज के मुकाबले 13 प्रतिशत कम है। वहीं भारत से चीन का आयात जहां पहले 2019 में  11 महीनों में करीब 19 अरब डॉलर रहा। यह पिछले साल 2019 की इसी अवधि के मुकाबले 16 प्रतिशत अधिक है। भारत का व्यापार घाटा आलोच्य अवधि में 40 अरब डॉलर रहा, जो इससे पूर्व वित्त वर्ष में 60 अरब डॉलर था। सीमा विवाद के बीच भारत ने देश की एकता और अखंडता को खतरा का हवाला देते हुए 200 से अधिक चीनी एप पर पाबंदी लगा दी है।

china india

बता दें कि चीन का अमेरिका के साथ व्यापार अधिशेष रिकॉर्ड 75.4 अरब डॉलर पर पहुंच गया है। नवंबर में चीन के निर्यात में पिछले साल की तुलना में 21.1 प्रतिशत की जोरदार बढ़ोतरी हुई है, जिससे उसका कारोबार अधिशेष रिकॉर्ड लेवल पर पहुंच गया है। अमेरिकी उपभोक्ताओं की मजबूत मांग से चीन के निर्यात में इजाफा हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *