महिलाओं से जुड़े अपराधों की निगरानी और समीक्षा गूगल स्प्रीड शीट से करेगी छत्तीसगढ़ पुलिस

मॉनीटरिंग करने के लिए सिस्टम 1 नवंबर से

रायपुर। प्रदेश में बढ़ रहे महिलाओं से जुड़े अपराधों पर निगरानी और समीक्षा गूगल स्प्रेडशीट से छत्तीसगढ़ पुलिस (Chhattisgarh Police) करेगी। विवेचना अधिकारियों की कार्रवाई की मॉनीटरिंग करने के लिए सिस्टम 1 नवंबर से लागू किया जाएगा। डीजीपी डीएम अवस्थी ने पूरे मामलें की मॉनीटरिंग करने की जिम्मेदारी एआईजी भावना गुप्ता को दी है। एआईजी गुप्ता को स्टेट नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। डीजीपी अवस्थी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी आईजी और एसपी को यह निर्देश जारी किए हैं।

फार्मेट होगा निर्धारित

डीजीपी डीएम अवस्थी (Chhattisgarh Police)  ने बताया कि महिला विरूद्ध अपराधों की निगरानी इसके लिए सभी जिले को गूगल स्प्रेडशीट की एक लिंक भेजी जाएगी। लिंक को खोलते ही निर्धारित फार्मेट में प्रतिदिन की महिला विरूद्ध अपराध और कार्रवाई की जानकारी भरनी होगी। मॉनिटरिंग के लिए पुलिस मुख्यालय में विशेष महिला सेल का गठन किया गया है। डीजीपी अवस्थी पुलिस मुख्यालय से स्वयं महिला विरूद्ध अपराधों पर की गई कार्रवाई पर नजर रखेंगे।

तीन तरह के दिखेंगे अलर्ट

गूगल स्प्रेडशीट में अपराधों पर कार्रवाई नहीं होने पर तीन तरह के अलर्ट दिखेंगे। अपराध दर्ज करने के दिन से 15 दिन में गिरफ्तारी ना होने पर संबंधित जिले के कॉलम में येलो अलर्ट, गिरफ्तारी के दिन से 15 दिन में चालान पेश नहीं करने पर रेड अलर्ट और गिरफ्तारी दिनांक से 60 दिनों में चालान पेश नहीं करने पर ब्लेक लिस्ट दिखेगा। उक्त अवधि में महिला विरूद्ध अपराधों पर कार्यवाही ना होने पर संबंधित पुलिस अधिकारी (Chhattisgarh Police) के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। डीजीपी अवस्थी ने कहा कि अपराधियों को जल्द से जल्द सजा दिलवाने वाले पुलिस अधिकारियों को सुपर इन्वेस्टिगेटर के खिताब से नवाजा जाएगा। वे स्वयं ऐसे पुलिस अधिकारियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित करेंगे।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *