महिला ने बीमार पति को एम्बुलेंस में चढ़ाने की लगाई गुहार, मदद नहीं मिलने पर मौत

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के बोनगांव में शनिवार को मानवता को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। एक शख्स की उस समय मौत हो गई जब एक अस्पताल के बाहर उसकी पत्नी उसे एम्बुलेंस में चढ़ाने के लिए मदद की गुहार लगाती रही और उसकी आवाज किसी ने नहीं सुनी।

दरअसल, 68 वर्षीय माधव नारायण दत्ता सांस को सांस लेने में तकलीफ के बाद शनिवार शाम करीब 5 बजे बोनगांव सबडिविजनल अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्हें संदिग्ध COVID-19 रोगियों के वार्ड में रखा गया था।

death

रात में करीब 8 बजे उनकी हालत बिगड़ गई और डॉक्टरों ने उन्हें 80 किमी दूर कोलकाता के एक अस्पताल में रेफर कर दिया। एम्बुलेंस की भी व्यवस्था की गई, लेकिन बुजुर्ग दुकानदार उस पर चढ़ नहीं सके। पत्नी ने उन्हें एम्बुलेंस पर चढ़ाने की हर संभव कोशिश की लेकिन वह काफी नहीं था। वह लोगों से मदद की गुहार लगाती रही, लेकिन कोई आगे नहीं आया।

ऐसा नहीं है कि वहां उस समय लोग मौजूद नहीं थे। लेकिन सब मुकदर्शक बनकर खड़े थे, मदद को कोई आगे नहीं आया। वहां एक शख्स पीपीई सूट में भी मौजूद था जो- शायद एम्बुलेंस का ड्राइवर था। माधव दत्ता की पत्नी ने उससे भी मदद की गुहार लगाई और कहा, ‘दादा, आप पीपीई पहने हुए हैं, कृपया मदद करें।’ वहां उस समय कई लोग मौजूद थे जो सिर्फ तमाशबीन होकर देख रहे थे कि कैसे वह महिला अपने पति को एम्बुलेंस पर चढ़ाने की कोशिश कर रही है, लेकिन वह इसमें कामयाब नहीं हो सकी।

Person died in Bongaon

आखिर में 30 मिनट के संघर्ष के बाद माधव नारायण दत्ता ने दम तोड़ दिया। यह अमानवीय घटना एक क्रूर तस्वीर पेश करती है कि कैसे महामारी ने लोगों के दिमाग में कोरोनावायरस से संक्रमित होने का गहरा भय पैदा कर दिया है कि वे एक मरते हुए आदमी की मदद के लिए भी आगे नहीं आए।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *