स्विट्जरलैंड के 20 नए अत्याधुनिक वेंटीलेटर मिले AIIMS को –

रोगियों को बेहतर चिकित्सा और सुरक्षा प्रदान करने में मिलेगी मदद

रायपुर. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान,(AIIMS) रायपुर में आने वाले गंभीर रोगियों को आईसीयू की बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए अब यहां 20 नए अत्याधुनिक वेंटीलेटर उपलब्ध होंगे। एम्स को हाल ही में स्विट्जरलैंड में निर्मित 20 नए वेंटीलेटर प्राप्त हुए हैं। यह सभी अत्याधुनिक वेंटीलेटर रोगियों की मॉनीटरिंग और वेंटीलेशन की आधुनिक तकनीक से सुसज्जित हैं। यह व्यस्कों, बच्चों और नवजात शिशुओं सभी के लिए उपयोगी होंगे।

एम्स (AIIMS) में स्विट्जरलैंड की विश्व प्रसिद्ध हैमीलटन कंपनी के सी3 वेंटीलेटर प्राप्त हुए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से सभी एम्स को वेंटीलेटर प्रदान किए गए थे उन्हीं में से 20 वेंटीलेटर एम्स को प्रदान किए गए हैं। यह स्वयं में संपूर्ण वेंटीलेटर होते हैं जो वर्तमान चिकित्सा आवश्यकताओं को पूरा करते हैं। यह इनवेसिव और नॉन इनवेसिव वेंटीलेशन में उपयोगी हैं। इसके मॉनीटरिंग पैकेज में सभी प्रकार के रोगियों की आसान निगरानी संभव है।

चिकित्सकों को मिलेगी मदद

फेफड़ों को बचाने के लिए चिकित्सक इनकी मदद से आसानी के साथ रोगी की जरूरत के मुताबिक वेंटीलेशन प्रदान कर सकते हैं। यह आधुनिक तकनीक से बने होने की वजह से रोगी की सांस को सामान्य बनाए रखने में मदद करता है। इससे वेंटीलेशन की समय सीमा को निर्धारित किया जा सकता है। हैमीलटन वेंटीलेटर में विभिन्न वेंटीलेशन मोड, हाईफ्लो आक्सीजन थैरेपी, पल्स आक्सीमेटरी, रोगी के डेटा ट्रांसफर की सुविधा और समस्या के समाधान के लिए ऑन स्क्रीन हैल्प की सुविधा भी है।

25 वेंटीलेटर शीघ्र मिलेंगे

निदेशक प्रो. (डॉ.) नितिन एम. नागरकर ने बताया कि एम्स रायपुर (AIIMS) को 20 नए वेंटीलेटर मिल गए हैं और 25 अन्य वेंटीलेटर शीघ्र मिलने की संभावना है। एम्स में पूर्व में ही 73 वेंटीलेटर और 10 यूएस-एड द्वारा प्रदान किए गए पोर्टेबल वेंटीलेटर उपलब्ध हैं। 20 नए वेंटीलेटर मिलने से एम्स की क्षमता और अधिक बढ़ जाएगी। उन्होंने इसके लिए केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय का आभार प्रकट करते हुए कहा कि कोविड-19 की चुनौती में इन वेंटीलेटर का बेहतर उपयोग किया जा सकेगा।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *