26 अगस्त से खुलेगा पद्मनाभ स्वामी मंदिर, कोरोना के चलते 21 मार्च से था बंद,Padmanabha Swamy Temple to open from August 26

तिरुअनंतपुरम। कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण को बढ़ने से रोकने के लिए देशभर के सभी मंदिर बंद कर दिए गए थे। लेकिन अब अनलॉक (Unlock) की प्रक्रिया में कई मंदिरों को फिर से खोला गया है। ऐसे में केरल (Kearala) के प्रसिद्ध भगवान पद्मनाभ स्वामी मंदिर (Padmanabha Swami Mandir) श्रद्धालुओं के लिए 26 अगस्त से खोल दिया जाएगा। हालांकि, इस दौरान कोविड-19 प्रोटोकाल का कड़ाई से पालन किया जाएगा। कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए 21 मार्च से मंदिर बंद रखा गया है।

Padmanabha Swamy temple3

दर्शन के लिए श्रद्धालु मंदिर की वेबसाइट एसपीएसटी डॉट इन पर एक दिन पहले शाम पांच बजे से पहले ऑनलाइन बुक कराएंगे। उन्हें बुकिंग की कापी और मूल आधार कार्ड साथ में लाना होगा, तभी दर्शन हो पाएंगे। भगवान पद्मनाभ स्वामी मंदिर में श्रद्धालुओं को मास्क लगाए रखना होगा और मंदिर के सामने साबुन से हाथ धोने के बाद ही उन्हें प्रवेश करने दिया जाएगा।

Padmanabha Swamy temple2

श्रद्धालुओं के लिए विभिन्न मंदिरों को खोले जाने को देखते हुए इस तीर्थस्थल की प्रबंधन समिति ने भी प्रतिबंध के साथ दर्शन की अनुमति देने का फैसला लिया है। मंदिर की ओर से बताया गया कि सुबह आठ से 11 बजे दिन तक और शाम पांच बजे से शाम 6:45 के आसपास दीप आराधना के समय तक दर्शन की अनुमति दी जाएगी। रोजाना एक समय केवल 35 और अधिकतम 665 लोगों को ही मंदिर में प्रवेश करने दिया जाएगा।

jain mandir

2 दिनों के लिए खोले जाएंगे मुंबई के 3 जैन मंदिर

सुप्रीम कोर्ट की ओर से शुक्रवार को जैन समाज के तीन मंदिरों को सशर्त खोलने और पर्युषण पूजा करने की इजाजत दे दी गई है। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि हम दादर, बायकुला और चेंबूर में स्थित जैन समाज के मंदिर को खोलने और पर्युषण पूजा की इजाजत देते हैं। केंद्र द्वारा धार्मिक स्थलों को खोलने के लिए लागू किए गए SOP को ध्यान में रखते हुए कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि 22 और 23 अगस्त को पर्युषण के अंतिम दो दिनों के लिए श्रद्धालुओं के लिए जैन मंदिरों को खोल दिया जाए। मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस एस ए बोबडे की अगुआई वाली बेंच ने की। उन्होंने कहा कि यह छूट गणेश चतुर्थी के लिए किसी अन्य मंदिर पर लागू नहीं होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *