34 साल बाद नया उपभोक्ता संरक्षण कानून लागू

नई दिल्लीः देशभर में नया उपभोक्ता संरक्षण कानून 2019 सोमवार को लागू हो गया है। नए कानून के तहत भ्रामक विज्ञापन करने पर सेलिब्रिटी पर भी 10 लाख रुपए तक का जुर्माना तय किया गया है।

यह सेलिब्रिटी का दायित्व होगा कि वो विज्ञापन में दी जा रही पूरी जानकारी की जाच पड़ताल कर ले। मिलावटी सामान और खराब प्रोडक्ट पर कंपनियों पर जुर्माना और मुआवजा देना शामिल किया गया है। झूठी शिकायत करने वाले पर अब 50 हजार रुपए जुर्माना लगेगा।

केंद्रीय उपभेक्ता अधिकार मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए सोमवार को कानून लागू करने पर कहा कि घटिया सामान बेचने वालों, भ्रामक विज्ञापन देने वालों को जेल के साथ जुर्माने का प्रावधान नए कानून में किया गया है।

नए कानून के अहम प्रावधान:

§ नए कानून में ऑनलाइन और टेलीशॉपिंग कंपनियों को भी शामिल किया गया है।

§ सिनेमा हॉल में खाने-पीने की वस्तुओं पर ज्यादा पैसे लेने की शिकायत पर होगी कार्रवाई।

§ खाने–पीने की चीजों में मिलावट करने वाली कंपनी पर जुर्माने और जेल का प्रावधान।

§ जनहित याचिका अब कंज्यूमर फोरम में देश में कहीं भी दायर की जा सकेगी। पहले के कानून में ऐसा नहीं था

§ उपभोक्ता मध्यस्थता सेल का गठन। दोनों पक्ष आपसी सहमति से मध्यस्थता का विकल्प चुन सकेंगे

§ कंज्यूमर फोरम में एक करोड़ रुपए तक के केस और राज्य उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग में एक करोड़ से 10 करोड़ रुपए तक के केस सुने जाएंगे।

§ राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग में 10 करो़़ड रपये से ऊपर के केस की सुनवाई होगी।

कैरी बैग के पैसे वसूलना कानूनन गलत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *