छत्तीसगढ़ में कानून का राज अपराधों पर प्रभावी नियंत्रण

छत्तीसगढ़ में अपराध के आंकड़ों पर भाजपाई कर रहे हैं गलत बयानी

रायपुर/30 अगस्त 2022। नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल द्वारा दिये बयान छत्तीसगढ़ में अपराध बढ़ रहा है को कांग्रेस ने झूठा और मनगढ़त बताया है। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष एनसीआरबी के आंकड़ों को झूठे तरीके से प्रस्तुत कर गलत बयानी कर रहे है। हकीकत यह है कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद अपराधों में बड़ी कमी है तथा सभी प्रकार के अपराधों में प्रभावी कमी आई है। एनसीआरबी के हाल ही में जारी 2021 के आंकड़े के विश्लेषण से साफ हो जाता है कि छत्तीसगढ़ में भाजपा राज के 2018 के बाद के तीन वर्षों में अपराधों में गिरावट आई है। देश के 20 प्रमुख राज्यों के अध्ययन से स्पष्ट होता है कि छत्तीसगढ़ में महिलाओं के प्रति अपराध बलात्कार, छेड़छाड़ जैसी घटनाओं में 64 प्रतिशत तक की गिरावट हाई है। सन् 2017 में रमन राज के समय छत्तीसगढ़ हत्या के मामले में देश में 15वें स्थान पर था जिसमें अब 52 प्रतिशत की कमी आई है।
एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार बच्चों के विरुद्ध हुए अपराधों में 17 प्रतिशत की राज्य में लूट डकैती के अपराधो में भी कमी आयी है। 2016-17-18 के तीन साल में डकैती के 214 अपराध हुये थे। कांग्रेस राज में 2019-20-21 में छत्तीसगढ़ में यह घट कर 196 तक पहुंच गयी। एनसीआरबी के आंकड़े के अनुसार छत्तीसगढ़ में पिछले तीन साल में दर्ज लूट की सभी घटनाओं के अपराधियों को पकड़ा गया है। 2019-20-21 में छत्तीसगढ़ में हत्या के अपराधों में भी गिरावट 28 प्रतिशत की कमी आयी है।

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद कांग्रेस सरकार और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्य के नागरिकों विशेष कर महिलाओं को भय मुक्त जीवन जीने का वातावरण देने को प्राथमिकता में रखा। वर्तमान सरकार में प्रशासनिक सक्रियता और प्रतिबंधात्मक कार्यवाही या तेजी से बढ़ी है जिसके चलते ना केवल अपराधों में नियंत्रण हो रहा है, बल्कि अपराधी भी पकड़े जा रहे हैं। प्रशासनिक आतंकवाद और अराजकता रमन सरकार के संरक्षण में प्रदेश में फलते फूलते रही, जिसे भूपेश बघेल सरकार ने खत्म किया है। भारतीय जनता पार्टी के 15 साल के दौरान प्रदेश से 27 हजार से अधिक महिलाएं गायब हुई जिस पर भाजपा नेता मौन रहे। गंगा पांडे जैसे भाजपा नेता मानव तस्करी में संलिप्त रहे। झलियामारी, मीना खलखो और मन मड़कम हिड़मे जैसे बलात्कार और हत्या के प्रकरण रमन राज में होते है। नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी ओपी गुप्ता को रमन सरकार के दौरान मुख्यमंत्री निवास में संरक्षण मिलता रहा। जगत पुजारा, पोडियम लिंगा और धर्मेंद्र चोपड़ा जैसे भारतीय जनता पार्टी के एजेंटों का नक्सल कनेक्शन भी सर्वविदित है।

प्रदेश कांग्रेस, संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा है कि पूर्व के रमन सरकार के दौरान भाजपा नेताओं के संरक्षण में तस्करी करने वाले अवैध कार्य करने वाले अपराधी फलते-फूलते रहे हैं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार बनने के बाद कानून मजबूती से जनता को सुरक्षा प्रदान कर रहे हैं अपराधियों में कानून का ख़ौफ़ दिख रहा है। नक्सल घटनाओं में 77 परसेंट और नक्सल हमलों में शहादत में 52 प्रतिशत की कमी एक बड़ी उपलब्धि है। मुद्दों के दिवालियापन से जूझ रहे भारतीय जनता पार्टी के नेता अनर्गल बयानबाजी कर छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़ियों को बदनाम करने नित नए साजिश रच रहे हैं। धरमलाल कौशिक और छत्तीसगढ़ के भाजपा नेताओं इसी तरह से झूठ, भ्रम और गलत बयानी करके अपनी विश्वसनीयता खोते जा रहे हैं।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.