Samachar Jagat

सिलहट (बांग्लादेश) | इंग्लैंड के खिलाफ क्लीन स्वीप करने के बाद उत्साह से ओतप्रोत भारतीय टीम रन आउट विवाद को पीछे छोड़कर महिला एशिया कप टी20 क्रिकेट टूर्नामेंट में अपनी लय बरकरार रखने के लिए उतरेगी, जहां शनिवार को उसका पहला मैच श्रीलंका से होगा। भारतीय महिलाओं को टी20 प्रारूप में हाल में बहुत अधिक सफलताएं नहीं मिली हैं लेकिन इस महाद्बीपीय प्रतियोगिता में हरमनप्रीत कौर की अगुवाई वाली टीम खिताब के प्रबल दावेदार के रूप में शुरुआत करेगी। पिछली बार के टूर्नामेंट को छोड़कर भारत ने 2004 से शुरू हुए एशिया कप में हर बार खिताब जीता है। उसने वनडे प्रारूप में चार जबकि टी20 प्रारूप में दो खिताब हासिल किए हैं।

एशिया कप को 2012 में वनडे से टी20 प्रारूप में तब्दील कर दिया गया था। भारत तब से दो बार इसमें विजेता रहा जबकि 2018 में पिछले टूर्नामेंट में उसे बांग्लादेश से हार का सामना करना पड़ा था। कोविड-19 के कारण चार साल बाद आयोजित किए जा रहे इस टूर्नामेंट में भारतीय टीम अपना दबदबा बरकरार रखने की कोशिश करेगी। पिछला टूर्नामेंट बांग्लादेश में 2020 में खेला जाना था लेकिन कोविड-19 महामारी के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था। बîमघम राष्ट्रमंडल खेलों में ऐतिहासिक रजत पदक जीतने के बाद भारतीय महिला क्रिकेट टीम को इस महीने के शुरू में इंग्लैंड से टी20 श्रृंखला में 1-2 से हार का सामना करना पड़ा था। लेकिन हरमनप्रीत कौर की अगुवाई वाली टीम ने वनडे में शानदार वापसी की और 3-0 से क्लीनस्वीप करके दिग्गज तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी को शानदार विदाई दी। यह श्रृंखला आखिर में हालांकि नॉन स्ट्राइक छोर पर रन आउट करने के कारण चर्चा में रही।

भारतीय ऑलराउंडर दीप्ति शर्मा ने इंग्लैंड के बल्लेबाज चार्ली डीन को गेंद फेंकने से पहले क्रीज से बाहर निकल जाने पर रन आउट कर दिया था। इस तरह से रन आउट करना वैध माना जाता है लेकिन इसे खेल भावना नहीं माना जाता। भारतीय टीम इस घटना को पीछे छोड़ कर सकारात्मक पहलुओं के साथ आगे बढ़ने की कोशिश करेगी। जहां तक खिलाड़ियों के प्रदर्शन की बात है तो कप्तान हरमनप्रीत शानदार फॉर्म में है जबकि स्मृति मंधाना भी अच्छी बल्लेबाजी कर रही है लेकिन शेफाली वर्मा, सबिनेनी मेघना और दयालन हेमलता को अच्छा प्रदर्शन करने की जरूरत है।

हाथ में चोट के कारण इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला में नहीं खेल पाने वाली जेमिमा रोड्रिग्स ने टीम में वापसी की है। ऋचा घोष भी टीम में हैं जिन्हें राष्ट्रमंडल खेलों के लिए नहीं चुना गया था। भारतीय तेज गेंदबाजी का जिम्मा रेणुका सिह संभालेंगी, जबकि स्पिन विभाग की जिम्मेदारी राधा यादव, राजेश्वरी गायकवाड़ और दीप्ति के कंधों पर होगी। दूसरी तरफ श्रीलंका की टीम कप्तान चमारी अटापट्टू पर बहुत निर्भर है। युवा विशमी गुणत्ने के चोटिल होने के कारण बाहर हो जाने से चमारी की जिम्मेदारी बढ़ गई है।

श्रीलंका के मध्य क्रम की जिम्मेदारी हसीनी परेरा और हर्षिता समरविक्रमा पर होगी, जबकि गेंदबाजी आक्रमण का जिम्मा काफी हद तक स्पिनरों इनोका रणवीरा और ओशादी रणसिघे पर होगा। टूर्नामेंट में कुल सात टीम भारत, पाकिस्तान, थाईलैंड, श्रीलंका, मलेशिया, संयुक्त अरब अमीरात और मेजबान बांग्लादेश भाग ले रही हैं। प्रत्येक टीम राउंड रोबिन प्रारूप में एक दूसरे से भिड़ेगी और इस तरह से छह मैच खेलेगी। लीग चरण में शीर्ष पर रहने वाली चार टीम सेमीफाइनल में जगह बनाएंगी।

टीम इस प्रकार हैं:
भारत: हरमनप्रीत कौर (कप्तान), स्मृति मंधाना, दीप्ति शर्मा, शैफाली वर्मा, जेमिमा रोड्रिग्स, सबिनेनी मेघना, ऋचा घोष (विकेटकीपर), स्नेह राणा, दयालन हेमलता, मेघना सिह, रेणुका ठाकुर, पूजा वस्त्राकर, राजेश्वरी गायकवाड़, राधा यादव, केपी नवगिरे।
श्रीलंका: चमारी अटापट्टू (कप्तान), निलाक्षी डी सिल्वा, कविशा दिलहारी, अचिनी कुलसुरिया, सुगंधिका कुमारी, हर्षिता माधवी, मदुशिका मेथटानंद, हसीनी परेरा, ओशदी रणसिघे, इनोका रणवीरा, अनुष्का संजीवनी (विकेटकीपर), कौशानी नुथ्यंगना, रश्मी शेहानी सिल्वा, थारिका सेवंडी।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.