स्वास्थ्य विभाग की विकास प्रदर्शनी में जांच और उपचार की सुविधा, निःशुल्क दवाई भी

राज्योत्सव स्थल पर ‘हमर अस्पताल’ की थीम पर स्वास्थ्य विभाग की प्रदर्शनी

आदिवासी नृत्य महोत्सव और राज्योत्सव देखने आने वाले दर्शकों के साथ ही प्रतिभागी कलाकार भी ले रहे हैं स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ

रायपुर. 3 नवम्बर 2022. राज्य स्थापना दिवस के मौके पर राज्योत्सव स्थल रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में 1 नवम्बर से संचालित स्वास्थ्य विभाग की विकास प्रदर्शनी में लोगों को निःशुल्क जांच, उपचार और दवाईयों की सुविधा प्रदान की जा रही है। रायपुर शहर के चार शहरी स्वास्थ्य केंद्रों में संचालित ‘हमर अस्पताल’ की थीम पर यहां अलग-अलग काउंटर बनाकर गैर-संचारी रोगों, टीबी, नेत्र रोग, परिवार नियोजन तथा मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य के संबंध में परामर्श भी दिया जा रहा है। सिकलसेल के साथ ही यहां रक्त संबंधी अलग-अलग जांच भी की जा रही है। राज्योत्सव स्थल पर उपलब्ध कराई जा रही स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ राज्योत्सव व राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव देखने आ रहे लोगों के साथ ही आदिवासी नृत्य महोत्सव में भाग लेने आए कलाकार भी उठा रहे हैं। मांसपेशी के दर्द से जूझ रहे मंगोलिया के एक कलाकार का त्वरित इलाज भी यहां स्टॉल में मौजूद डॉक्टरों ने किया।

राज्योत्सव स्थल में स्वास्थ्य विभाग की विकास प्रदर्शनी में ई-पंजीयन कक्ष, एनसीडी (Non-communicable Diseases) क्लिनिक, ओपीडी चिकित्सक कक्ष, दवा वितरण कक्ष, मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य काउंसिलिंग कक्ष, टीबी परामर्श कक्ष और नेत्र परीक्षण कक्ष स्थापित कर लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराई जा रही हैं। राज्योत्सव स्थल पर किसी भी तरह की आपात स्थिति के लिए चार बिस्तरों का आईपीडी भी बनाया गया है। नेत्र परीक्षण कक्ष में मोतियाबिंद और अन्य नेत्र विकारों की जांच की जा रही है। वहीं टीबी परामर्श कक्ष में इसके लक्षण वाले लोगों के बलगम संकलित कर जांच के लिए भेजा जा रहा है।

एनसीडी क्लिनिक में पहुंचने वाले लोगों के सुगर और ब्लड-प्रेशर की जांचकर डॉक्टरों द्वारा जरूरी परामर्श और दवाईयां दी जा रही हैं। मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य काउंसिलिंग कक्ष में परिवार नियोजन संबंधी सलाह के साथ ही परिवार नियोजन के लिए गर्भ निरोधक गोलियां और कंडोम वितरित किए जा रहे हैं। प्रदर्शनी में स्थापित ‘हमर लैब’ में पिछले दो दिनों (1 नवम्बर और 2 नवम्बर) में 91 लोगों की सिकलसेल जांच की गई है। इनमें से पॉजिटिव पाए गए 18 लोगों के रक्त के नमूने एचबी इलेक्ट्रोफ्लोरिसिस (HB Electroflororis) जांच के लिए लैब में भेजा गया है।

स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा स्टॉल में स्थापित टीबी परामर्श कक्ष में पिछले दो दिनों में 48 लोगों में टीबी की स्क्रीनिंग की गई है। इनमें से 33 लोगों का बलगम ट्रू-नाट जांच के लिए लैब भेजा गया है। वहीं नेत्र परीक्षण कक्ष में 356 लोगों के आंखों की जांच की गई है। इनमें से मोतियाबिंद से पीड़ित पाए गए 12 मरीजों को आगे की जांच और उपचार के लिए विभिन्न शासकीय अस्पतालों में रिफर किया गया है।

स्वास्थ्य विभाग के स्टॉल में स्थापित ‘हमर लैब’ में एचबी, मलेरिया, टाइफाइड, डेंगू, सीबीसी, आरएफटी, एलएफटी, लिपिड प्रोफाइल, डाइबिटीज, आरए फैक्टर, यूरिक एसिड और कोरोना जांच की सुविधा है। पिछले दो दिनों में यहां 56 लोगों के कुल 73 तरह की जांच की गई है। विकास प्रदर्शनी देखने आने वाले लोगों को आईईसी के माध्यम से अच्छी सेहत व विभिन्न बीमारियों के प्रति जागरूक व शिक्षित भी किया जा रहा है।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.