भास्कर पारा कोल माइंस के प्रभावित पंचायतों के जनप्रतिनिधियों ने क्षेत्रीय अधिकारी पर्यावरण व संरक्षण मण्डल अम्बिकापुर को 6 बिंदुओं में लिखित पत्र सौंपा

सूरजपुर,भैय्या थान ,बता दें कि जिले के भैयाथान विकासखण्ड अर्न्तर्गत ग्राम भास्करपारा, खाडापारा, कुरीडीह, केवरा, दनौलीखुर्द, कुसमुसी व बडसरा के लगभग 932 हेक्टेयर में प्रकाश इडस्ट्रीज लिमिडेट की खुली खदान परियोजना प्रस्तावित है।जिसकी जन सुनवाई 9 अक्टूबर को ग्राम केवरा में प्रस्तावित है जिस हेतु पर्यावरण विभाग द्वारा आपत्ति मंगाई गई थी।इस संबंध में बीते गुरुवार को प्रभावित ग्राम के जनपद सदस्य, सरपंच व पंच कार्यालय पहुंच 6 बिंदुओं पर पर्यावरणीय नुकसान की आपत्ति दर्ज कराई गई है। पत्र में कहा है कि प्रस्तावित भास्करपारा कोल माइंस के प्रभावित ग्रामों में शासकीय, राजस्व, वन भूमि व निजी भूमि से लगभग 1 लाख से अधिक तेन्दु, साल, महुआ के पेड़ पौधे काटे जायेगें जिससे क्षेत्र में पर्यावरणीय असन्तुलन पैदा होने के साथ ही कटने वाले अधिकांश पेड़ पौधे औषधिय महत्व व वनोपज के है जो स्थानीय लोगों का आय से जुड़ा हुआ है जिससे ग्रामीण अपना जीवकोपार्जन भी करते हैं तथा अधिकाश वन क्षेत्र मवेशियों के लिए चारागाह के रूप में उपयोग होता है। इस परियोजना के प्रारंभ होने से किसानों के पशुधन को चारा व पानी का संकट पैदा हो जायेगा जिससे स्थानीय ग्रामीणों का कृषि कार्य व दुग्ध व्यवसाय बडे पैमाने पर प्रभावित होगा जिससे बड़ी आर्थिक क्षति होगी। वहीं प्रभावित ग्रामों के आसपास जल स्त्रोतों का जल स्तर नीचे चले जाने के कारण पेय जल का संकट के साथ साथ प्राकृतिक जल स्त्रोत नदी नाले भी सुख जायेगें कृत्रिम जल स्त्रोत जैसे बांध, तालाब, कुआं, ट्यूबवेल भी सुखेंगें जिससे किसानों को कृषि कार्य हेतु जल संकट का सामना करना पड़ेगा।आबादी क्षेत्र के आसपास माइनिंग में ब्लास्टींग हेतु बारूद का उपयोग किया जायेगा जिससे क्षेत्र में वायु प्रदुषण बढेगा और परियोजना के प्रारम्भ होने से खदान से निकलने वाले अपशिष्ट व अशुद्ध कोयला मिश्रीत जल आसपास के कृषि भूमि में समाहित कर दिया जाता है। जिससे बड़े पैमाने पर कृषी भूमि बंजर भूमि में बदल जाती है।

इस दौरान जनपद सदस्य सुनील कुमार साहू व हृदय सिंह, सरपंच ललिता सिंह, शिव कुमार सिंह,ललिता सिंह,सोनमती सिंह उपसरपंच राजकुमार साहू, विष्णु राजवाड़े, हीरामती सहित मनीष यादव,विजय सिंह,भगवान दास, अवध राम, बसंत, रामेश्वर सिंह, कन्हैया लाल, विनोद, दिलीप, तेजबली उपस्थित रहे।

कलेक्टर को भी सौंपा है पत्र
भास्कर पारा कोल परियोजना के प्रभावित ग्राम पंचायत के जनपद सदस्य व सरपंचों ने कलेक्टर इफ्फत आरा को आवेदन पत्र सौंपकर ग्राम केवरा में प्रस्तावित जन सुनवाई को स्थगित करने की मांग की है।पत्र में कहा है कि प्रकाश इंडस्ट्रीज लिमिटेड कंपनी द्वारा सबसे कम प्रभावित ग्राम केवरा में जनसुनवाई का कार्यक्रम 9 अक्टूबर को रखा गया है। जो अन्य प्रभावित ग्राम पंचायतो से काफी दूर भी है जबकि कंपनी द्वारा सबसे अधिक प्रभावित ग्राम पंचायत बसकर का भूमि 320.30 एकड़, कुरीडीह 184.98 एकड़,दनौली खुर्द 178.36 एकड़ तथा खाड़ापारा 131.34 एकड़ भूमि अधिग्रहित की जानी है।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.