PM Modi to address the closing ceremony of the 400th birth anniversary of Lachit Borphukan today

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूर्ववतीã अहोम साम्राज्य के जनरल लचित बोड़फूकन की 400वीं जयंती पर साल भर आयोजित कार्यक्रमों के समापन समारोह को आज यानी शुक्रवार को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने एक बयान में बताया कि प्रधानमंत्री आज विज्ञान भवन में आयोजित समापन समारोह को संबोधित करेंगे।

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी का निरंतर प्रयास रहा है कि गुमनाम नायकों को उचित सम्मान दिया जाए। इसी के अनुरूप देश 2022 को लचित बोड़फूकन की 400 वीं जयंती वर्ष के रूप में मना रहा है। लचित बोड़फूकन के 400 वें जयंती वर्ष समारोह का उद्घाटन पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविद ने इसी साल फरवरी में असम के जोरहाट में किया था।

लचित बोड़फूकन असम के पूर्ववतीã अहोम साम्राज्य में एक सेनापति थे। सरायघाट के 1671 के युद्ध में उनके नेतृत्व के लिए उन्हें जाना जाता है। इस युद्ध में औरंगजेब के नेतृत्व वाली मुगल सेना का असम पर कब्जा करने का प्रयास विफल कर दिया गया था। इस विजय की याद में असम में 24 नवंबर को लचित दिवस मनाया जाता है। सरायघाट का युद्ध गुवाहाटी में ब्रह्मपुत्र नदी के तटों पर लड़ा गया था।

प्रधानमंत्री कार्यालय के अनुसार, लचित बोड़फूकन ने 1671 में लड़ी गई सरायघाट की लड़ाई में असमिया सैनिकों को प्रेरित किया, जिसकी वजह से मुगलों को करारी और अपमानजनक हार का सामना करना पड़ा। उसने कहा, ''लचित बोड़फूकन और उनकी सेना की ओर से लड़ी गई यह लड़ाई हमारे देश के इतिहास में प्रतिरोध की सबसे प्रेरणादायक सैन्य उपलब्धियों में से एक है।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.