मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिह राजपूत की संदिग्ध मौत मामले में उनकी महिला मित्र एवं मॉडल अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के वकील ने कहा है कि रिया शिव सेना नेता आदित्य ठाकरे को नहीं जानती और न ही उनसे कभी मिली हैं।

रिया के वकील ने मंगलवार को एक वक्तव्य जारी कर कहा, ''रिया आदित्य ठाकरे को नहीं जानतीं और न ही आज तक वह उनसे मिली हैं। उन्होंने आदित्य से फोन पर कभी बात भी नहीं की है। रिया केवल इतना जानती हैं कि आदित्य शिव सेना के एक नेता हैं। लेकिन रिया डिनो मोरिया को जानती हैं क्योंकि वह फिल्म इंडस्ट्री में उनके सीनियर हैं।

रिया के वकील ने कहा, '' इस मामले में मुंबई पुलिस और प्रवर्तन निदेशालय जांच कर चुकी हैं। दोनों ही जांच एजेंसियों के पास इस मामले से जुड़े इलेक्ट्रॉनिक, फारेंसिक और मेडिकल जानकारी होने के अलावा बैंक, आयकर से जुड़े दस्तावेजों के अलावा सीसीटीवी फुटेज और तमाम जानकारियां हैं लेकिन अब तक जांच में रिया के खिलाफ कुछ भी सामने नहीं आया है। पुलिस की जांच रिपोर्ट उच्चतम न्यायालय के पास बंद लिफाफे में मौजूद है। यदि इस मामले की जांच कोई तीसरी एजेंसी भी करती है तो रिया पूरी तरह से उसका सामना करने के लिए तैयार है। रिया और सुशांत काफी लंबे समय से एक-दूसरे को जानते थे और दिसंबर 2०19 में दोनों ने बांद्रा के माउंट ब्लैंक अपार्टमेंट में साथ रहना शुरू कर दिया था।

रिया के वकील ने कहा कि अप्रैल 2०19 में ही रिया और सुशांत की बहन प्रियंका एक पार्टी में साथ गए थे। सुशांत की बहन ने उस पार्टी में काफी शराब पी ली थी और सभी के साथ दुर्व्यवहार कर रही थी। रिया, प्रियंका को लेकर सुशांत के घर आ गयीं। जब रिया सुशांत के कमरे में सो रही थी तो प्रियंका ने रिया के साथ दुराचार करने की कोशिश की। इसके बाद रिया वहां से चली गयी।

रिया ने जब यह सुशांत को बताया तो इसको लेकर सुशांत और प्रियंका में काफी बहस हुई। इस घटना के कारण ही सुशांत के परिवार और रिया के बीच संबंध खराब हो गए थे। सुशांत लगातार अपने परिवार के सदस्यों से मिलने और मुंबई से शिफ्ट करने की बात कर रहा था लेकिन परिवार के किसी सदस्य ने उसकी बात नहीं सुनी। सुशांत के कई दिनों तक फोन करने के बाद उनकी बहन मीतू आठ जून 2०2० को उनके साथ रहने उनके घर आ गयीं। सुशांत ने तब रिया को अपने माता-पिता के साथ रहने के लिए कहा। रिया आठ जून को ही सुशांत का घर छोड़कर चली गयी थी।

रिया के वकील ने कहा कि इस मामले में बिहार पुलिस का जांच करने का कोई अधिकार नहीं है। बिहार पुलिस को जीरो प्राथमिकी दर्ज कर यह मामला मुंबई पुलिस को सौंप देना चाहिए था। सुशांत के आत्महत्या करने के 4० दिन के बाद बिहार पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की। रिया किसी भी गैर-कानूनी जांच का हिस्सा नहीं बनेगी।

हार पुलिस के अधिकारियों ने मुंबई आने से पहले जांच में सहयोग के लिए रिया को समन तक नहीं भेजा। ऐसी रिपोर्ट भी सामने आई हैं कि बिहार में राजनीतिक दबाव के कारण प्राथमिकी दर्ज की गयी। बिहार में जिस तरह से मामले की जांच की जा रही है, रिया को न्याय मिलने की उम्मीद कम है। उन्होंने कहा कि यह मामला अब सच से बढकर राजनीति से जुड़ गया है। बिहार में चुनाव आने वाले हैं और राजनेता उसका लाभ उठाना चाहते हैं। (एजेंसी)

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.