Capital Raipur, Science College Ground, State youth festival, first day,

राज्य युवा महोत्सव: युवक-युवतियों ने प्रस्तुत किया आकर्षक राऊत नाचा

समाज को दिया बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, पढ़बो, लिखबो आगे बढ़बो का संदेश

रायपुर. राजधानी रायपुर के साईंस कॉलेज मैदान में आयोजित राज्य युवा महोत्सव के पहले दिन आज प्रदेश के विभिन्न जिलों के युवक-युवतियों ने आकर्षक राऊत नाचा प्रस्तुत किया। युवक-युवतियों ने राऊत नाचा के दौरान समाज को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, पढ़बो, लिखबो आगे बढ़बो आदि का संदेश दोहा के माध्यम से दिया। राऊत नाचा दलों ने रंग-बिरंगी परिधानों में लाठी और वाद्ययंत्रों के साथ आकर्षक नृत्य पुस्तुत किया। राऊत नाचा दलों में कलाकारों ने राधा-कृष्ण का रूप बनाकर, कांवर लेकर विभिन्न मुद्राओं में नृत्य किया। राज्य युवा महोत्सव परिसर के खुला मंच पर बालोद, बिलासपुर, धमतरी, जांजगीर-चांपा, बलौदाबाजार के युवक-युवतियों ने राऊत नाचा प्रस्तुत किया। राऊत नाचा को दर्शकों ने खूब सराहा।

राज्य युवा महोत्सव में छत्तीसगढ़ी गीत-संगीत की प्रस्तुति

राज्य युवा महोत्सव के पहले दिन आज बलौदाबाजार और दुर्ग जिले के युवक-युवतियों ने मनोहारी गीतों के साथ नृत्य प्रस्तुत किया। छत्तीसगढ़ी गीत पर आधारित नृत्य में बलौदाबाजार के युवक-युवती कलाकारों ने बाबा गुरू घासीदास के वंदना गीत बाबा तोर नाम अमर रहे न के साथ नृत्य प्रस्तुत करके दर्शकों का दिल जीत लिया। इन कलाकारों ने लोक गीत के साथ सुवा नृत्य भी प्रस्तुत किया।

दुर्ग जिले की युवतियों ने गौरी-गौरा की झांकी निकालकर गीत प्रस्तुत किया। इन कलाकारों ने छत्तीसगढ़ में दीपावली के अवसर पर गौरी-गौरा बनाकर पूजा करने की परंपरा को अभिनय के माध्यम से प्रस्तुत किया। इन कलाकारों ने छत्तीसगढ़ की राज्य गीत अपरा पैरी के धार महानदी हे अपार….. पर आकर्षक नृत्य की प्रस्तुति दी। युवतियों ने नरवा, गरूवा, घुरवा अऊ बारी को गीत के रूप में गाकर आकर्षक नृत्य प्रस्तुत किया।

राज्य युवा महोत्सव में कर्मा नृत्य की रही धूम

राज्य युवा महोत्सव के पहले दिन मुख्य मंच में आज बिलासपुर, कबीरधाम, बालोद और धमतरी जिले के कलाकारों ने कर्मा नृत्य प्रस्तुत कर धूम मचा दी। पारंपरिक गीतों एवं धुन पर समूह में नृत्य करके युवक-युवतियों ने सबका मन मोह लिया। दर्शकों ने खूब ताली बजायी।

छत्तीसगढ़ की संस्कृति में प्रचलित अनेक लोक नृत्यों में से कर्मा नृत्य एक है। कर्मा नृत्य राज्य के बिलासपुर, दुर्ग, रायपुर, राजनांदगांव, रायगढ़, सरगुजा, जशपुर, कोरिया, कवर्धा जिले में निवास करने वाली जनजातियों द्वारा किया जाता है। ये जनजातियां सरई एवं करम वृक्ष के नीचे इकठ्ठा होकर कर्मा गीत गाकर नृत्य करते हैं। जनजाति समूह वर्ष में एक बार इकठ्ठा होकर देवी-देवताओं की पूजा-अर्चना करके उत्सव मनाते हैं और करम वृक्ष की टहनी को जमीन में गड़ाकर चारों और घूम-घूमकर आनंदपूर्वक कर्मा नृत्य करते हैं। कर्मा नृत्य हमें कर्म का संदेश देता है। कर्मा नृत्य पर कई कथाएं प्रचलित हैं। इनमें राजा कर्म सेन की कथा, कर्मारानी की कथा, सात भाईयों की कथा, कर्मदेव का उल्लेख आदि प्रमुख हैं।

छत्तीसगढ़ में कर्मा नृत्य की विभिन्न शैलियां प्रचलित हैं। बस्तर जिले के अबुझमाड़ क्षेत्र में दण्डामी माड़िया जनजाति द्वारा माड़ी कर्मा लोक नृत्य किया जाता है। माड़ी कर्मा नृत्य विशेष रूप से महिलाओं द्वारा किया है और इनमें वाद्ययंत्रों का प्रयोग नहीं होता। केवल गीत के साथ नृत्य किया जाता है। यह नृत्य सामाजिक उत्सव व शुभ कार्य के अवसर पर दण्डामी माड़िया जनजाति करते हैं। बिलासपुर जिले में निवासरत भुंइहार जनजाति द्वारा भुंइहारी कर्मा नृत्य किया जाता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *