चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ हुआ खतरना, समुद्र में गईं सैकड़ों नौकाएं लौटीं तट पर

नईदिल्ली. चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ के बुधवार दोपहर को खतरनाक हो गया पालघर मछली पकड़ने की 577 नौकाएं समुद्र में गईं थी और सोमवार शाम तक 564 वापस आई थीं । जिला आपदा नियंत्रण प्रमुख ने कहा कि तटरक्षक, नौसेना और मत्स्य विभाग से मदद मांगी गई और शेष 13 नौकाएं भी मंगलवार देर शाम किनारे पर लौट आईं ।

उन्होंने बताया कि पालघर में तट के पास डहाणु, पालघर, वसई और तलासरी तहसील में कच्चे मकान में रहने वाले 15,000 से अधिक लोगों को बुधवार सुबह तक वहां से निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के दो दलों को किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पालघर में तैनात किया गया है।

एनडीआरएफ कर्मियों ने मंगलवार को जिले मे कुछ गांवों का दौरा कर लोगों को चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ आने पर क्या करना है और क्या नहीं इसकी जानकारी दी थी। पालघर और पड़ोसी जिले ठाणे में बृहस्पतिवार तक पहले ही निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है और मछुआरों सहित सभी लोगों से समुद्र में ना जाने को कहा गया है। जिले के क्षेत्रीय आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ के प्रमुख संतोष कदम ने बताया कि ठाणे जिले में भाइंदर के उत्तन तट पर एनडीआरएफ के एक दल को तैनात किया गया है, जहां अधिकतर मछुआरे रहते हैं।

दरअअसल चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ खतरनाक हो गया है पालघर मछली पकड़ने की 577 नौकाएं समुद्र में गईं थी और सोमवार शाम तक 564 वापस आई थीं । जिला आपदा नियंत्रण प्रमुख ने कहा कि तटरक्षक, नौसेना और मत्स्य विभाग से मदद मांगी गई और शेष 13 नौकाएं भी मंगलवार देर शाम किनारे पर लौट आईं ।

फिलहाल पालघर में तट के पास डहाणु, पालघर, वसई और तलासरी तहसील में कच्चे मकान में रहने वाले 15,000 से अधिक लोगों को बुधवार सुबह तक वहां से निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *