माले बंदरगाह पहुंचा INS जलश्व, स्वदेश आएंगे फंसे भारतीय

नई दिल्ली : कोविड-19 के प्रकोप के चलते दुनिया भर के अलग देशों में फंसे अपने नागरिकों को निकालने के लिए भारत सरकार ने अपना अभियान शुरू कर दिया है।

सात मई से एक सप्ताह तक चलने वाले इस राहत अभियान में 13 देशों से करीब 15 हजार लोग स्वदेश लाए जाएंगे।

सरकार ने अपने नागरिकों को निकालने के लिए विमानों एवं नौसेना के युद्धपोतों का इस्तेमाल कर रही है।

माले बंदरगाह पहुंचा आईएनएस जलश्व

अभियान इस कारवां को आगे बढ़ाते हुए नौसेना का युद्धपोत आईएनएस जलश्व गुरुवार को माले बंदरगाह पर पहुंचा।

मालदीव में भारत के उच्चायुक्त ने बताया कि ऑपरेशन समुद्र सेतु के पहले चरण में मालदीव में फंसे भारतीयों को निकाला जा रहा है। 

नौसेना सऊदी अरब सहित खाड़ी देशों में अपने युद्धपोत भेजने वाली है। इसके लिए नौसेना ने अपने 14 युद्धपोतों को तैयार रखा है। आईएनएस जलश्व में चिकित्साकर्मी भी मौजूद हैं।

जलश्व में एक साथ 1000 लोगों को रखने की क्षमता है लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए एक बार में 850-900 लोगों को निकाला जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *