Jipur Airport: The father was traveling from hospital to hospital to get the birth certificate of a child born in the air on an IndiGo flight ..! Hospitalists did not admit by saying expensive treatment | national News in Hindi

जयपुर। 21 दिन पहले बेंगलूरु-जयपुर फ्लाइट में हवा में जन्में एक बच्चे की खबर तो आपने पढ़ी होगी। इंडिगो की फ्लाइट में जन्मे इस बच्चे के बर्थ सर्टिफिकेट के लिए अब उसके माता-पिता को लगातार चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। कोई भी अधिकारी या कर्मचारी हवा में जन्में इस बच्चे का जन्म प्रमाणपत्र बनाने के लिए तैयार नहीं है। बच्चे के पिता भेंरू सिंह ने मीडिया को बताया है कि बच्चे के जन्म के बाद हम जैसे ही जयपुर एयरपोर्ट पहुंचे तो वहां तो इंडिगो के स्टाफ और कंपनी द्वारा हमारा अच्छे से स्वागत किया गया।

हमें अस्पताल भी पहुंचाया। लेकिन अस्पताल ने महंगे इलाज की बात कहकर मेरी पत्नी और बच्चे को एडमिट नहीं किया। प्राथमिक जांच के बाद हम बच्चे को लेकर राजस्थान के ब्यावर जिले स्थित जलिया रूपवास गांव आ गए। लेकिन यहां भी उन्हें बच्चे के जन्म प्रमाण पत्र के लिए लगातार चक्कर लगाने पड़ रहे हैं।

गांव पहुंचने के बाद बच्चे के पिता ने बच्चे का जन्म प्रमाणपत्र बनवाने के लिए मशक्कत शुरू की। उन्होंने जब इस संबंध में गांव के सरपंच से बात की तो उन्होंने उसे सरकारी अस्पताल भेज दिया। भेंरू सिंह ने बताया कि यहां से फिर हमें दूसरे अस्पताल भेज दिया गया। बच्चे के पिता को बर्थ सर्टिफिकेट के लिए लगातार परेशानी उठानी पड़ रही है। भेंरू सिंह ने बताया कि बच्चे का जन्म फ्लाइट में हवा में हुआ था इसलिये कोई भी इसका बर्थ सर्टिफिकेट जारी करने के लिए तैयार नहीं हैं।

गौरतलब है कि 17 मार्च को बेंगलूरु से जयपुर आ रही इंडिगो की एक फ्लाइट में हवा में बच्चे का जन्म हुआ था। जयपुर की ही एक महिला डॉक्टर यात्री ने मिड एयर डिलेवरी कराई थी। जिसके बाद बच्चे और मां को सकुशल जयपुर एयरपोर्ट पर उतारा गया था। 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *