बस्तर की आदिवासी महिलाएं तैयार कर रही साबुन और मास्क

नारायणपुर जिले में 40 हजार मास्क और 4 हजार साबुन तैयार

रायपुर. मास्क और साबुन बनाकर ग्रामीण महिलाएं न सिर्फ अपने परिवार के लिए अतिरिक्त आय अर्जित कर रही है, बल्कि लॉकडाउन अवधि में समाज को कोरोना संक्रमण से बचाने और रोकथाम में सहयोग कर रही है। समूह की महिलाएं मास्क बनाने में सामाजिक दायित्व के साथ परोपकार की भावना से जुड़कर योगदान दे रही हैं।

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत नारायणपुर जिले में कई महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा मास्क, साबुन एवं अन्य सामग्रियाँ जिला प्रशासन को उपलब्ध करवाएं जा रहे हैं। अभी तक इनके द्वारा 40 हजार मास्क और चार हजार साबुन तैयार किये जा चुके हैं। समूह के द्वारा बनाए गए मास्क और साबुन जिला प्रशासन, ग्राम पंचायत, स्वास्थ्य विभाग, नगर पालिका, महिला बाल विकास विभाग के माध्यम से ग्रामीण परिवारों तक पहंुचाएं जा चुके हैं। इस सामाग्रियों की बिक्री से समूह की महिलाओं को अच्छी आमदनी भी मिल रही है।

जिला प्रशासन द्वारा भी महिला समूहों को लगातार प्रोत्साहन दिया जा रहा है। मास्क बनाने के लिए सस्ते दर पर कॉटन के कपड़े और साबुन बनाने के लिए आवश्यक सामग्री समूह को उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इसके अलावा समूहों द्वारा उत्पादित मास्क और साबुन की बिक्री में भी सहयोग दिया जा रहा है। उत्पादों के निर्माण की मॉनिटरिंग अधिकारियों द्वारा की जा रही है। महिलाओं का कहना हैं कि आज देश कोरोना वायरस के संक्रमण काल के कठिन दौर से गुजर रहा है, देश को इस कठिन परिस्थितयों से निकालने में आजीविका मिशन की महिलाएं इस कार्य को बड़े उत्साह व रुचि से कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *