Uttrakhand: Rawat lost the chief minister’s chair in ‘political disaster’ in Uttarakhand, possible selection of new leader tomorrow, top of these 4 leaders’ name, can become the next CM| national News in Hindi

इंटरनेट डेस्क। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने राज्य में चल रहे सियासी संकट के बीच आज मंगलवार को राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से मिलकर उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया है। इस्तीफा देने के बाद वे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे। इसके साथ ही प्रदेश में नए नेतृत्व की तलाश की जा रही है। सतपाल महाराज का नाम भी मुख्यमंत्री की रेस मे शामिल है। उन्होंने हाल ही में संघ के प्रणुख नेताओं से इस सिलसिले में मुलाकात की थी। कल सुबह 10 बजे पार्टी कार्यालय में मीटिंग में नए नेता का नाम तय होगा।

 

BJP legislature party meeting is scheduled to be held at 10 am tomorrow at the party office: Trivendra Singh Rawat pic.twitter.com/4ZAfUd8obh
— ANI (@ANI) March 9, 2021

बुधवार को नए नेता के नाम पर फैसला होने की आशंका है। नए मुख्यमंत्री के लिए सांसद अनिल बलूनी, अजय भट्ट और प्रदेश सरकार के मंत्री धन सिंह रावत प्रबल दावेदार बताए जा रहे हैं। आज रात तक केंद्रीय पर्यवेक्षक छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह और दुष्यंत गौतम के देहरादून पहुंचने की उम्मीद है। इसके बाद माना जा रहा है कि कल या परसों तक उत्तराखंड बीजेपी विधायक दल की बैठक में नए मुख्यमंत्री का फैसला होगा।

 

I have submitted my resignation as the CM to the Governor today: Trivendra Singh Rawat pic.twitter.com/KJ7GsWEB4u
— ANI (@ANI) March 9, 2021

बताया जा रहा है कि केंद्रीय नेतृत्व ने त्रिवेंद्र सिंह रावत को मुख्यमंत्री पद से हटाने का फैसला पर्यवेक्षकों की रिपोर्ट के आधार पर लिया है। पर्यवेक्षकों ने कोर ग्रुप और प्रमुख विधायकों-सांसदों की राय के आधार पर केंद्रीय नेतृत्व ने को बताया है कि राज्य में अगले साल होने वाले चुनाव को लेकर स्थिति बहुत अच्छी नहीं है। इसके बाद से ही राज्य में नेतृत्व परिवर्तन की भूमिका तैयार हो गई थी।

गौरतलब है कि कई रिपोर्ट के आधार पर ये माना जा रहा है कि यदि रावत अगले साल तक मुख्यमंत्री रहते हैं तो यहां भाजपा को अगले साल होने वाले चुनावों में हार का मुंह देखना पड़ सकता है। आपको बता दें कि वर्ष 2000 में राज्य गठन के बाद से कांग्रेस के नारायण दत्त तिवारी के अलावा कोई भी मुख्यमंत्री अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाया है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *